बर्ड फ्लू उत्तराखंड: आज 78 पक्षी मृत, इन जगहों से मुर्गे और अंडे के आयात पर रोक, समितियों का गठन

bird flu

देहरादून: उत्तराखंड में बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद सरकार सक्रिय हो गई है। बर्ड फ्लू पर नियंत्रण और रोकथाम को राज्य व जिला स्तरीय समितियां गठित की गई हैं। पोल्ट्री सेक्टर की निगरानी को हाई अलर्ट जारी किया गया है। उन राज्यों से मुर्गी व अंडों की आपूर्ति पर रोक लगा दी गई है, जहां बर्ड फ्लू का संक्रमण अधिक होने के साथ ही पोल्ट्री सेक्टर प्रभावित है।

हिमाचल और हरियाणा से मुर्गे और अंडों के आयात पर पूर्ण रोक

एसीएस-कृषि उत्पादन आयुक्त राज्य स्तरीय समिति के अध्यक्ष होंगे। जबकि जिलों में समितियां डीएम की अध्यक्षता में काम करेंगी। प्रदेश सरकार ने हिमाचल और हरियाणा से मुर्गे और अंडों के आयात पर पूर्ण रोक लगा दी। राज्यमंत्री ने दावा किया कि राज्य में बर्ड फ्लू की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। पोल्ट्री सेक्टर में फिलहाल बर्ड फ्लू नहीं पाया गया है। दून और कोटद्वार में मृत पाए गए कौवों में इसकी पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। यह अभी जंगली पक्षियों में ही सामने आ रहा है।

पोल्ट्री सेक्टर में बर्ड फ्लू का कोई मामला नहीं

उन्होंने बताया कि फिलहाल पोल्ट्री सेक्टर में बर्ड फ्लू का कोई मामला नहीं है। यह सेक्टर पूरी तरह से निगरानी में है और हाई अलर्ट जारी किया गया है। राज्य की सीमा पर निगरानी के मद्देनजर पुलिस महानिदेशक को पत्र भेजा गया है।

आज कुल 78 पक्षी मिले मृत

सैंपलिंग और मृत पक्षियों के निस्तारण की ड्यूटी में तैनात कर्मचारियों को पीपीई किट दी जाएगी। इसके लिए सरकार से दस लाख रुपये की आकस्मिकता निधि मांगी जा रही है। वहीं,  मंगलवार को गढ़वाल और कुमाऊ मंडल में कुल 78 पक्षी मृत पाए गए। इसमें से नौ प्रवासी पक्षी भी हैं। प्रदेश में प्रवासी पक्षियों के मृत मिलने से वन विभाग की चिंता बढ़ी है।

जागरूकता के लिए गोष्ठी

राज्यमंत्री रखा आर्य ने कहा कि अधिकारियों को 14 जनवरी को पोल्ट्री सेक्टर से जुड़े लोगों, विशेषज्ञ, वैज्ञानिकों के साथ गोष्ठी करने के निर्देश भी दिए गए हैं। लोगों को इसके प्रति जागरूक करने के लिए मीडिया, सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों को भरपूर उपयोग किया जाए।

  • राज्य स्तरीय समिति: एसीएस/कृषि उत्पादन आयुक्त अध्यक्ष होंगे। जबकि चिकित्सा सचिव, वन सचिव, पशुपालन सचिव, जीबी पंत विवि के उप कुलपति, पीसीसीएफ, चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन समिति के सदस्य होंगे। पशुपालन निदेशक पर सदस्य सचिव की जिम्मेदारी रहेगी।
  • जिला स्तरीय समिति: डीएम अध्यक्ष होंगे। सीएमओ, जिले के सभी डीएफओ सदस्य रहेंगे। मुख्य पशुचिकित्साधिकारी सदस्य सचिव और संयोजक बनाए गए हैं।

मंगलवार को हरिद्वार के कनखल और रोशनाबाद स्पोर्ट्स स्टेडियम के पास दो कौवे मृत हालत में मिले हैं। पौड़ी जिले में कुल 11 पक्षियों की मौत हो गई। श्रीनगर और कीर्तिनगर में 3, लैंसडौन में तीन और कोटद्वार में 5 कबूतर और कौवे मृत मिले। श्रीनगर में भक्तियाना स्थित एसएसबी सीटीसी परिसर में 2 कौवे मृत, कोटद्वार में बालासौड़, तहसील और सिगड्डी सिडकुल के पास 5 कबूतर और कौवे मृत, लैंसडौन में 2 कबूतर व एक कौवा मृत मिला। चमोली जिले के निजमूला घाटी के गौणा गांव में एक पक्षी की मौत हो गई।

उत्तराखंड समेत सभी न्यूज पाने के लिए जॉइन करें हमारा व्हाट्सएप (WhatsApp) ग्रुप, लिंक पर क्लिक करें.. Bharatjan News Whatsapp Group Link

Bharatjan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here