देहरादून: सब्जी ट्रक की आड़ में नशे का कारोबार, करोड़ों की स्मैक के साथ 2 गिरफ्तार

देहरादून: लॉक डाउन के बीच देहरादून में नशे के तस्कर भी सक्रिय हैं। यहां आवश्यक सेवा में लगे वाहन (ट्रक) से सब्जी की आड़ में स्मैक की तस्करी की जा रही थी। जिसकी कीमत करोड़ों में है। इस स्मैक के साथ तस्करी मे प्रयुक्त ट्रक सहित दो स्मैक तस्करो को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

मामले के अनुसार, पुलिस कर्मियों टीम द्वारा प्रभावी सुरागरसी की जा रही थी। इसी दौरान 17 अप्रैल को पुलिस टीम को सूचना मिली कि कुछ लोग ट्रक में आवश्यक सेवा की आड़ में नम्बर दो का सामान लाने वाले हैं, जिस पर गठित टीम द्वारा संपूर्ण थाना क्षेत्र / सम्भावित स्थल में उक्त ट्रक की तलाशी में प्रभावी पतारसी एवं मुखबिर मामूर किये गये किंतु ट्रक का कुछ पता नहीं चल पाया। सूचना देने वाले मुखबिर को पुनः उक्त ट्रक की तलाश में लगाया गया। 18 अप्रैल को पुनः टीम द्वारा सुबह से ही क्षेत्र में सुरागरसी-पतारसी की जा रही थी । इसी दौरान मुखबिर से सूचना मिली कि जिस ट्रक के बारे में कल आपको बताया था वह ट्रक अभी मोदी ग्राउंड हरबर्टपुर में खड़ा है, जिसमें बैठे दोनों व्यक्ति संदिग्ध लग रहे हैं ।

इस सूचना पर गठित पुलिस टीम द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुए मौके पर जाकर चैक किया तो ट्रक में पीछे हरी मिर्च के बोरे भरे मिले, ट्रक में आगे आवश्यक सेवा सब्जी का स्टीकर लगा था । पुलिस टीम को देखकर अन्दर बैठे दो व्यक्ति मौके से भागने का प्रयास करने लगे तो दोनों को घेर घोटकर मौके पर ही पकड़ लिया, सख्ती से पूछताछ करने पर पकड़े गए दोनों व्यक्ति शेरदीन व अशफाक के द्वारा बरेली से भारी मात्रा में स्मैक लाने की बात स्वीकार की गई, तब एनडीपीएस एक्ट में निहित प्रावधानों के अंतर्गत मौके पर क्षेत्राधिकारी महोदय विकास नगर को आने का आग्रह किया गया। क्षेत्राधिकारी विकास नगर द्वारा मौके पर पहुंचकर स्वयं की उपस्थिति में एनडीपीएस एक्ट में निहित प्रावधानों के अंतर्गत कार्यवाही कराई गई, पकड़े गए दोनों व्यक्तियों से भारी मात्रा में स्मैक बरामद होने तथा इसमें का वाहन ट्रक में परिवहन करने पर उनके विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत थाना विकासनगर पर अभियोग पंजीकृत किया गया ।

अभियुक्तगणों से पूछताछ में अभियुक्त शेरदीन द्वारा बताया कि साहब मैं पूर्व में भी स्मैक तस्करी में 03 बार पकड़ा जा चुका हूँ । चूँकि लाकडाउन के समय स्थानीय एवं आसपास के क्षेत्र में बरेली से स्मैक नही आ पा रही थी और लोकल तथा आसपास के क्षेत्र में स्मैक की भारी कमी हो गयी थी तब मेरे द्वारा अब्बास से सम्पर्क किया गया और कहा गया कि किस तरह बरेली से स्मैक लायी जा सकती है तो अब्बास नें मेरा सम्पर्क ट्रक मालिक इमरान से करवाया और इमरान नें कहा कि मेरा आढत का काम है, मेरे पास ट्रक है उसमें आवश्यक सेवा का स्टीकर लगाकर सब्जी लेने के बहाने बरेली ले जाओ और स्मैक खरीदकर ले आओ, इस लायी गयी स्मैक को अभी रोककर स्कूल / कालेजों के खुलने पर इसमें पढने वाले बच्चों को एवं ओद्यौगिक क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों को ऊँचे दाम पर बेचकर हम तीनों भारी मुनाफा कमा लेंगे । इमरान नें यह भी कहा था कि मुझसे फोन पर बात मत करना अब्बास को हम इसलिए भी साथ में नही ले गये थे कि ट्रक मालिक इमरान नें कहा था कि अगर 03 आदमी ट्रक में जायेंगे तो पुलिस जगह-जगह पूछताछ करेगी । योजना के तहत हमनें बरेली जाकर आवश्यक सेवा (सब्जी) की आड़ में फतेहगंज पश्चिमी बरेली के रहने वाले मामू नाम के व्यक्ति से कुल 500 ग्राम स्मैक खरीदी एवं पुलिस – प्रशासन को चकमा देने के लिए ट्रक में मिर्च भरकर सब्जी की आड़ में स्मैक लेकर आये । हमारे बीच यह तय हुआ था कि ट्रक ड्राईवर मुझे धर्मावाला छोड़ देगा एवं स्वयं ट्रक लेकर सहारनपुर चला जायेगा और हमने ट्रक हरबर्टपुर एक ग्राउण्ड में खड़ा कर दिया । किन्तु 18 अप्रैल की सुबह को जब हमें हरबर्टपुर से जाना था तो हमारी गाड़ी खराब हो गयी थी इंजन स्टार्ट नही हो पा रहा था । अभियुक्तगणों द्वारा यह भी बताया गया कि लाकडाउन के समय इस स्मैक की काफी अच्छी कीमत उन्हें प्राप्त होती । पूछताछ में प्रकाश में आये व्यक्तियों के विरुद्ध साक्ष्य संकलन कर एवं बरेली के तस्कर को भी विवेचना में शामिल कर गैंगस्टर एक्ट में भी कार्यवाही की जायेगी । अभियुक्तों को आज न्यायालय पेश किया जा रहा है ।
देहरादून जनपद में भारी संख्या में तकनीकी कालेज / व्यावसायिक / मेडिकल कालेज, ओद्यौगिक क्षेत्र हैं चूंकि, लाकडाउन के समय स्मैक की तस्करी काफी हद तक जनपद देहरादून में बन्द हो गयी थी और अभियुक्तगणों का यह मंसूबा था कि, चूंकि लाकडाउन में स्मैक की कमी हो गयी है और इस समय स्मैक का स्टाक करके स्कूल / कालेजों के खुलने पर उसमें पढने वाले छात्रों को एवं ओद्यौगिक क्षेत्र के मजदूरों को ऊंचे दामों पर स्मैक बेचकर भारी मुनाफा कमाते । पुलिस द्वारा अभियुक्तगणों के इस मंसूबे / नेटवर्क को भेदकर आने वाले समय में स्कूल / कालेजों में छात्रों को एवं ओद्यौगिक क्षेत्र के मजदूरों को स्मैक बेचकर नशे का आदी बनाने से बचाया गया ।

गिरफ्तार अभियुक्तों का नाम पता

1- अशफाक अहमद पुत्र शकूर अहमद निवासी ताल्हापुर, थाना बिहारगढ़, जनपद सहारनपुर, उ0प्र0, उम्र- 37 वर्ष।
2- शेरद्दीन पुत्र नजीरुद्दीन निवासी माजरी थाना सहसपुर, जिला देहरादून, उम्र- 52 वर्ष।

बरामदगी का विवरण

500 gm मादक पदार्थ स्मैक, अन्तर्राष्ट्रीय कीमत करीब 02 करोड़ रुपये ।

पुलिस टीम

1- गिरीश नेगी, वरिष्ठ उप-निरीक्षक / थाना प्रभारी, कोतवाली विकासनगर ।
2- दीपक मैठाणी, चौकी प्रभारी, बाजार विकासनगर ।
3- प्रमोद कुमार, चौकी प्रभारी कुल्हाल विकासनगर ।
4- रवि प्रसाद कवि, चौकी प्रभारी हरबर्टपुर विकासनगर ।
5- का0 श्रीकान्त मलिक, कोतवाली विकासनगर (विशेष सहयोग)
6- का0 1428 सन्दीप कुमार, कोतवाली विकासनगर

आपराधिक इतिहास अभियुक्त शेरदीन

1- मु0अ0सं0-139/15 धारा 8/20 एनडीपीएस एक्ट थाना सहसपुर,
2- मु0अ0सं0-02/18 धारा 8/21 एनडीपीएस एक्ट, थाना सहसपुर जिला देहरादून,
3- मु0अ0सं0-103/19 धारा 8/21 एनडीपीएस एक्ट थाना सहसपुर जिला देहरादून ।

पुलिस उपमहानिरीक्षक/ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून द्वारा वर्तमान में चल रहे लॉक डाउन के दौरान थाना विकासनगर टीम द्वारा किए गए उक्त उत्कृष्ट कार्य की भूरी- भूरी प्रशंसा कर रूपए 2500/- नगद पुरस्कार की घोषणा की गई है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here